परिचय

परिचय

वस्तुएं व्यापर में उपयोग होने वाला मूल सामान हैं। वस्तुओं को आमतौर पर धातु, ऊर्जा, कृषि उत्पाद तथा पर्यावरण में वर्गीकृत किया जाता है। आधुनिक अर्थशास्त्र में, वस्तुएं मांग या जरूरतों को संतुष्ट करने के लिए उत्पादित बिक्री योग्य मदें हैं। शेयरों के विपरीत, वस्तुओं का आंतरिक मूल्य होता है और ये वैश्विक अर्थव्यवस्था को प्रभावित करने में बड़ी भूमिका निभाती हैं। इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता की हम कहाँ रहते हैं, वस्तुओं को आधुनिक जीवन के लिए आवश्यक माना जा रहा है।

धातुएं

धातुओं को आमतौर पर दो में से एक श्रेणी में बाटा जाता है:

  • बहुमूल्य धातुएं – दुर्लभ, प्राकृतिक रूप से उपस्थित धातु-संबंधी तत्व
  • आधारभूत धातुएं – ये धातुएं व्यापक रूप से वाणिज्यिक तथा औद्योगिक अनुप्रयोगों में उपयोग की जाती हैं

बहुमूल्य धातुएं दुर्लभ, अधिक आर्थिक मूल्य वाले प्राकृतिक रूप से उपस्थित धातु-संबंधी तत्व होते हैं। औद्योगिक तत्व तथा निवेश के रूप में ये दो प्रयोजन पूरा करती हैं। विनिर्माता इन धातुओं का उपयोग इलेक्ट्रॉनिक घटक, आभूषण, दंत उपकरण और अन्य चीजों के साथ उत्प्रेरक रूपांतरणों के रूप में करते है।

दूसरी और निवेशक बहुमूल्य धातुओं से निर्मित सिक्के तथा पट्टियां एकत्र करते हैं। निवेश के रूप में दूसरा उपयोग इन बहुमूल्य धातुओं को वस्तुओं के बाजारों में तीव्र अटकलों की वस्तुएं बनाता है। बहुमूल्य धातुओं के व्यापारी इन वस्तुओं को धन के रूप में देखते हैं जो मुद्रित कागजी धन की अपेक्षा अपना मूल्य बेहतर ढंग से धारण करती हैं।

सक्रिय पण्य बाज़ार वाली बहुमूल्य धातुओं में निम्न धातुएं शामिल होती हैं:

सोना

सोना एक बहुमूल्य धातु है जिसका उपयोग निवेश साधन के रूप में सटोरियों द्वारा किया जाता है। यद्यपि विनिर्माता इसका उपयोग कुछ इलेक्ट्रॉनिक पुर्जों में करते हैं, सोने की मांग का अधिकांश हिस्सा आभूषण निर्माताओं और व्यापारियों से संचालित होता है। कई ग्राहक सोने के आभूषणों को निवेश के रूप में देखते हैं।

चांदी

चाँदी निर्माता भी चाँदी का उपयोग इलेक्ट्रॉनिक तथा आभूषण में करते हैं, जबकि व्यापारी धातु को सिक्कों या पट्टियों के रूप में एकत्र करते हैं। इतिहास के अनुसार चाँदी का व्यापार सोने की आंशिक कीमत पर किया जाता था। कुछ व्यापारी सोने और चाँदी की कीमतों के बीच के दायरे की निगरानी करते हैं।

प्लैटिनम

प्लैटिनम का उपयोग आभूषण तथा कारों के लिए उत्प्रेरक रूपांतरण बनाने के लिए किया जाता है। निवेशक जिन कारणों की वजह से सोना तथा चाँदी खरीदते हैं उनमें से कुछ की कारणों की वजह से वे प्लैटिनम खरीदते हैं।

पैलेडियम

पैलेडियम का उपयोग उत्प्रेरक रूपांतरण, दंत उपकरण तथा इलेक्ट्रॉनिक पूर्जे बनाने के लिए किया जाता है।

आधारभूत धातुओं का उपयोग निर्माण तथा विनिर्माण सहित औद्योगिक और वाणिज्यिक अनुप्रयोगों की एक पूरी श्रृंखला में किया जाता है। रोजमर्रा के मदों में इनका व्यापक उपयोग इन्हें वैश्विक बाज़ारों में आवश्यक वस्तुएं बनाता है।

प्रसिद्ध आधारभूत धातुएं जिनका व्यापार सक्रिय रूप से पण्य बाज़ार में किया जाता है इनमें शामिल हैं:

तांबा
सीसा
निकल
जिंक
एल्युमीनियम
टिन

ऊर्जा

ऊर्जा वस्तुएं कदाचित वे वस्तुएं हैं जिनका व्यापार करने का सबसे अधिक प्रभाव व्यापारियों तथा गैर-व्यापारियों पर सामान रूप से पड़ता है। ऊर्जा की कीमत हर व्यक्ति के दैनिक जीवन तथा जीवन यापन की लागत को प्रभावित करती है। सामान्य ऊर्जा वस्तुओं में निम्नलिखित शामिल हैं:

एक वस्तु के रूप में तेल वैश्विक अर्थव्यवस्था के आधारों में से एक है, इसलिए पण्य बाज़ार में इसके व्यापार का अनुसरण न केवल वस्तु व्यापारियों बल्कि सरकारों, अर्थशास्त्रियों, सभी प्रकार की कंपनियों तथा आम जनता द्वारा किया जाता है।

गैस एक अत्यधिक महत्वपूर्ण वस्तु है। प्राकृतिक गैस प्राथमिक गैस-आधारित वस्तु है जिसका व्यापार पण्य बाज़ार में किया जाता है।

कोयले का व्यापार विश्व भर में सक्रिय रूप से कई वस्तु विनिमयों द्वारा किया जाता है। उपभोक्ता तथा औद्योगिक उपयोग के लिए कोयला बिजली उत्पादन का स्त्रोत है।

जैविक ईंधन की मांग की वजह से एथेनॉल लोकप्रियता प्राप्त कर रहा है।
आधुनिक जीवन के सभी अनुप्रयोगों को बिजली की आवश्यकता होती है। लगभग सभी औद्योगिक आउटपुट को भी बिजली की आवश्यकता होती है।

कृषि वस्तुएँ

कृषि वस्तुओं को आसानी से तीन प्रमुख श्रेणियों में वर्गीकृत किया जाता है:
इनमें शामिल हैं:

1. अनाज

किसान इन वस्तुओं को निम्न रूप में उगाते हैं

  • इंसानों के लिए खाद्य पदार्थ के स्त्रोत के रूप में,
  • पशुओं के लिए खाद्य पदार्थ के स्त्रोत के रूप में, और
  • ईंधनों (कुछ मामलों में) के लिए फीडस्टॉक के रूप में

सबसे आम अनाज वस्तुएं हैं गेहूं, मक्का, ज्वार, बाजरा तथा भात।

2. तिलहन

किसान इन्हें (a) इनके बीजों में अत्यधिक तेल की मात्रा और (b) तेल निकालने के बाद शेष खाद्य के लिए उगाते हैं:

  • केनोला
  • कॉटन
  • ताड़ का तेल
  • सोयाबीन

3. अन्य नाजुक वस्तुएं

ये ज्यादातर कृषि के अन्य उत्पादों को संदर्भित करते हैं जैसे:

  • कोको
  • कॉफ़ी
  • जमा हुआ गाढ़ा संतरे का जूस (FCOJ)
  • चीनी
  • दुग्ध पदार्थ जैसे दूध, मक्खन, छांछ, पनीर

मांस की वस्तुओं में शामिल हैं:

1. जीवित पशुओं का पालन-पोषण मीट, चमड़े, अंगों, हड्डियों तथा खुरों के लिए किया जाता है और

2. पशुओं की हत्या करते समय मीट के टुकड़े उत्पन्न किए जाते हैं:

  • संभरक मवेशी
  • जीवित मवेशी
  • सूअर

कुछ वस्तुओं के अच्छी-तरह से विकसित हुए वैश्विक बाज़ार हैं, लेकिन वे आसानी से उपरोक्त श्रेणियों में फिट नहीं बैठते:

  • लकड़ी
  • रबड़
  • ऊन

कई कृषि वस्तुओं का व्यापार व्यापक रूप से वैश्विक तथा प्रत्याशित निवेशकों द्वारा नहीं किया जाता लेकिन वास्तविक बाज़ार मांग द्वारा संचालित किया जाता है।

पर्यावरिक वस्तुएं

पिछले 30 वर्षों में, इंसान स्वास्थ्य के प्रति अधिक जागरूक हो गया है। विश्व भर में समुदाय स्वस्थ जीवनयापन तथा कम प्रदूषण के लिए संघर्ष कर रहे हैं। इसके परिणाम स्वरूप, प्रदूषण कम करने के लिए सरकारों तथा व्यापारों द्वारा कई पहल की गई हैं। कार्बन उत्सर्जन कम करने के प्रयासों जैसे इन कुछ कार्यक्रमों जिनकी अगुआई संयुक्त राष्ट्र तथा यूरोपियन संघ द्वारा की गई, का कार्यान्‍वयन उनसे संबंधित वस्तुओं का व्यापार करने की अनुमति देने के लिए किया गया है। थोड़े समय में, ये नई व्यापारगत पर्यावरण अनुकूल वस्तुएँ पण्य दलालों तथा व्यवसायों के लिए लोकप्रिय तथा आकर्षक विकल्प के रूप में विकसित हुए हैं। चूंकि पर्यावरण को लेकर चिंता निरंतर बढ़ रही है, इसलिए इन अवसरों में केवल वृद्धि हो सकती है।

कार्बन उत्सर्जन संबंधी व्यापार के प्रति दो दृष्टिकोण हैं:

  • सीमा और व्यापार
    भागीदारी करने वाली कंपनियों द्वारा भाग लेने के क्षेत्राधिकार में अनुमेय कार्बन उत्सर्जन पर सीमा लगाकर काम करता है। इससे संभावित कार्बन उत्सर्जन की परिमित मात्रा निकलती है, जिसके अधिकारों का व्यापार किया जा सकता है। कंपनियां उत्‍सर्जन ना करने की बजाए उत्‍सर्जन करने के अधिकार प्राप्‍त करके, पण्‍य बाजार में उत्सर्जन प्रमाणपत्र बेचकर लाभ कमा सकती हैं। इसी तरह, अत्यधिक प्रदूषणकारी उद्योगों में शामिल कंपनियां प्रमाणपत्र खरीद सकती हैं जो उन्‍हें उनकी सीमा जो वे अन्‍यथा करने में सक्षम थी, से कहीं अधिक प्रदूषण करने की अनुमति देता है।
  • कार्बन ऑफसेट
    ऐसी कंपनियों को शामिल करता है जो उत्सर्जन सीमा के अंतर्गत आती हैं। यदि कोई कंपनी इस सीमा कम प्रदूषण करती है तो वह क्रेडिट बनाने की पात्र है जिनका वस्तु के रूप में व्यापार किया जा सकता है।
RECs, को नवीकरणीय ऊर्जा क्रेडिट या ग्रीन टैग्स के रूप में भी जाना जाता है, जो ग्रीन ऊर्जा के उत्पादन पर आधारित एक नई वस्तु है। ये प्रमाणपत्र उन कंपनियों को प्रमाण के रूप में दिए जाते हैं कि एक MWh (मेगावाट ऑवर) या अधिक का उत्पादन नवीकरणीय तरीकों द्वारा किया गया है। क्योंकि इन प्रमाणपत्रों का व्यापार किया जा सकता है, इसका अर्थ है कि जिस कंपनी ने नवीकरणीय ऊर्जा उत्पन्न नहीं की है वह इसका दावा नवीकरणीय ऊर्जा क्रेडिट्स खरीदकर कर सकती है।

श्वेत प्रमाणपत्रों को ऊर्जा बचत प्रमाणपत्र या ऊर्जा दक्षता क्रेडिट्स के रूप में भी जाना जाता है, जो नवीकरणीय ऊर्जा प्रमाणपत्रों के जैसे ही काम करते हैं लेकिन ये ऊर्जा दक्षता में व्यापार करते हैं बजाय कि नवीकरणीय ऊर्जा के उत्पादन में।

वस्तु व्यापार

वैश्विक स्तर पर 40 से अधिक बड़े अंतर्राष्ट्रीय पण्य विनिमय संचालन में हैं। जबकि अधिकांश विनिमय अनेक वस्तुओं में कारोबार करते हैं, इनमें से प्रत्येक विशेष प्रकार की वस्तुओं में माहिर है।

इन मुख्य अंतर्राष्ट्रीय विनिमयों के कुछ उदाहरण हैं:

शिकागो मर्केंटाइल एक्सचेंज (CME के रूप में भी जाना जाता है)। यह विशेष विनिमय सबसे बड़े विनिमय केंद्रों में से एक है और 100 से अधिक वर्षों से संचालन में है। यह मुख्यतः जैविक वस्तुओं, जैसे दुग्ध उत्पाद, मांस, उर्वरक और पशुधन में व्यापर करता है। यह वित्तीय लिखितों जैसे ब्याद दरों, शेयर सूचकांक तथा बिटकॉइन (क्रिप्टोमुद्रा) में भी व्यापार करता है।

न्यूयॉर्क मर्केंटाइल एक्सचेंज (NYMEX)। यह अमेरिका के सबसे पुराने राष्ट्रीय विनिमय केंद्रों में से एक है और मुख्यतः पेट्रोल संबंधित पदार्थों तथा धातु के उत्पादों में व्यापार करता है।

लंदन मेटल एक्सचेंज (LME)। आधारभूत धातुओं में व्यापार करने के लिए यह अगर सबसे बड़ा नहीं तो सबसे बड़े पण्य केंद्रों में से एक है।

टोक्यो कमोडिटी एक्सचेंज (TOCOM)। यह विनिमय केंद्र बधुमुली धातुओं (सोना, चाँदी, प्लैटिनम) तथा तेल सहित जापान की सभी वस्तुओं में व्यापार करता है।

विकसित देशों में पण्य विनिमय केंद्र जैसे भारत का मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज, चीन का शंघाई फ्यूचर्स एक्सचेंज तथा ब्राज़ील का BM&F BOVESPA

फोरेक्स व्यापार के समान, दुनिया भर में भौगोलिक और समय क्षेत्र के अंतर के कारण वस्तु भी 24/7, प्रति सप्ताह 5 दिन निवेश अवसर तथा ट्रेडिंग विंडो प्रदान करती। निवेश के आस्ति वर्ग के रूप में वस्तु किसी सामान्य सदस्य के लिए बहुत जटिल हो सकती है क्योंकि हर प्रकार की वस्तु के लिए अनेक कारकों पर विचार करना होता है। इसलिए, वित्तीय शिक्षा के उद्देश्य के लिए, Financial.org अपने सदस्यों के लिए निवेश के आस्ति वर्ग के रूप में पूरी तरह से बहुमूल्य धातुओं, विशेष रूप से सोने, पर ध्यान केंद्रित करेगा।

डाउनलोड के लिए उपलब्ध है
डाउनलोड के लिए उपलब्ध है
आज ही हमारे आधिकारिक मोबाइल ऐप डाउनलोड करें।
Financial.org एक शैक्षणिक मंच है। हम प्रतिभूतियों के साथ लेनदेन नहीं करते हैं और वित्तीय उत्पाद और सेवा प्रदाताओं से कोई वित्तीय लाभ प्राप्त नहीं करते हैं।
सर्वाधिकार सुरक्षित © 2016 - 2019